भारत में पाएं जाने वाले सबसे खतरनाक साँप | Types of snakes in India | 10 most dangerous snake in India | Poisonous snakes in India

Types of snakes in India – भारत में पाए जाने वाले सबसे खतरनाक सांपो के प्रकार

अगर Types of snakes in India में देखा जाये और सबसे खतरनाक सांप की गिनती की जाये तो बहुत सारे मिल जायेंगे लेकिन मैं आज टॉप 10 सबसे खतरनाक सांपो की बात करेंगे। भारत में पाए जाने वाले 10 सबसे खतरनाक सांपों में से एक है बैंडेड क्रेत (Banded Krait) जो कि बहुत ही जहरीला है जिसका एंटीवेनम अभी तक नहीं बन पाया है, एक और सांप जिसका अभी तक उसका भी एंटीवेनम नहीं बन पाया है। लेकिन मैं आज आपलोगों को बैंडेड क्रेत (Banded Krait) के बारे में बताऊंगा जो बेहद खतरनाक होते हैं।

लेकिन एक चीज है बैंडेड क्रेत जल्दी काटता नहीं है ये बहुत ही शर्मीला होता है ज्यादा परेशान करने पर ही काटता है

Banded Krait ka photo
Banded Krait

Common krait भारत के दूसरे सबसे जहरीला और खतरनाक सांप है अगर इसका इलाज तुरंत न कराया जाए तो उस इंसान का मात्र 2 से 3 घंटे में मौत हो जाती है। इस सांप के जहर में Neurotoxin venom होते जिसके कारण इसके काटने से खून धीरे धीरे जमना यानि थक्का बनना शुरू हो जाता है जिसके कारण शरीर में रक्त का प्रवाह रुक जाती है और इंसान कि मौत हो जाती है।

बैंडेड क्रेत (Banded Krait)

Advertisement

बैंडेड क्रेत (Banded Krait) – इस बैंडेड क्रेत को पहचानना बहुत ही आसान है, इसके शरीर के ऊपर काले और पीले क्रॉसबैंड्स यानी इसके पूरे शरीर पर काले पीले रंग की मोटी मोटी धारियां बनी होती है। इसके शरीर का बनावट त्रिकोणीय होती है, इसके शरीर के साथ बढ़े हुए कशेरुक ढाल होते हैं। सिर चौड़ा और उदास होता है, आँखें काली होती हैं, इसके काले सिर पर तीर के समान पीले निशान होते हैं। और होंठ पीले होते हैं, इस साँप की पूँछ छोटी होती है, साँप की लंबाई का लगभग दसवां भाग। 

कुछ लोगों ने अफवाह फैला रखा है कि इस सांप का मुंह दोनों तरफ होती है इसलिए ये दोनों तरफ से काट सकता है, लेकिन ऐसा कुछ भी नहीं है। इस सांप की बनावट ही ऐसी होती है कि देखने से प्रतीत होता है कि इसका मुंह दोनों तरफ है, ये सांप बहुत ही जहरीला होता है। इसे बेगैर किसी सेफ़्टी के न पकड़े सांप का कोई भरोसा नहीं कब काट ले, एक से बड़े बड़े सांप एक्सपर्ट को सांप काट चुका है कुछ जिंदा है तो कुछ यमलोक पहुँच चुका है।

बैंडेड क्रेत (Banded Krait) की खासियत

बैंडेड क्रेत सांप कि खासियत ये है कि ये जल्दी काटता नहीं है ये बहुत ही शर्मिला होता है नई दुल्हन कि तरह, जब तक आप इसपे प्रेसर नहीं बनाया जाता है। इस पर दबाव नहीं डाला जाएगा जब तक ये साँप काटता नहीं, इसकी यही खासियत होती है लेकिन इसका विष बहुत ही खतरनाक और जानलेवा होता है। बैंडेड क्रेत की एक ऐसा सांप है जो अधिकांश अपने ही जाति – प्रजाति के सांपों को बड़े आसानी से खा जाता है।

Banded Krait का Anti venom

जीतने भी सांप होते हैं उसी के जहर से बचने के लिए दवाईयां बनाई जाती है जिसे एंटी वेनम  ( anti venom ) कहते है, लेकिन ये एक ऐसा सांप है कि इसके जहर से अभी तक एंटी वेनम नहीं बना है न ही बन सकता है। इसलिए अभी तक इस सांप का एंटीवेनम नहीं बन पाया है, ये सांप जितना देखने में सुंदर लगता है उससे कई ज्यादा ये सांप खतरनाक है, इसलिए इसे देखने पर इसे पकड़ने कोशिश एकदम न करे किसी जानकार आदमी को बुलाकर उसकी मदद ले जितना हो सके सांपों को बचाने कि कोशिश करे क्योंकि सभी सांपों के जहर से बहुत से तरह कि दवाइयाँ भी बनाई जाती है।

ये सांप अब बहुत कम देखने को मिलता है एक तरह से देखा जाए तो अब ये बहुत ही रेयर हो गया है ये विलुप्त होने के कगार पर है।

बैंडेड क्रेत (Banded Krait) का विष/जहर कितना खतरनाक है?

इस प्रजाति के विष से हमारे शरीर में होने वाले प्रमुख दुष्परिणाम में उल्टी, पेट में दर्द, दस्त और चक्कर आना शामिल हैं। सांस लेने में तकलीफ होने लगती है बात करे बैंडेड क्रेत (Banded Krait) के जहर के बारे में तो बैंडेड क्रेत (Banded Krait)  का जहर बहुत ही खतरनाक होता है इसका जहर से इंसान तीन घंटे के अंदर मर जाता है, गर समय पर इलाज नहीं किया जाए तो।

बैंडेड क्रेत (Banded Krait) का व्यवहार

बैंडेड क्रेत (Banded Krait) शर्मीले होते हैं, आमतौर पर ये ज्यादा नहीं देखे जाते हैं, और मुख्य रूप से निशाचर यानी रातों में निकलते हैं। जब उसे परेशान किया जाता है, तो वे आमतौर पर अपने सिर को अपने कुंडल के नीचे छिपा लेते हैं, और आमतौर पर काटने का प्रयास तक नहीं करते हैं, लेकिन रात में वे अधिक सक्रिय होते हैं और व्यापक रूप से तब अधिक खतरनाक हो जाता है। दिन के दौरान, वे घास, गड्ढों या नालियों में लेटे रहते हैं या छिप जाते हैं। और उकसाने दौरान ये सुस्त नजर आते हैं।

Banded Krait बारिश में सबसे ज्यादा देखे जाते हैं, बैंडेड क्रेत (Banded Krait) इसका पहला मुख्य भोजन साँप ही है, लेकिन मछली, मेंढक, कंकाल और साँप के अंडे खाने के लिए भी जाना जाता है।

Banded Krait कहाँ पाया जाता है?

ये साँप अधिकांश भारतीय उपमहाद्वीप और दक्षिण पूर्वी एशिया देशों में पाई जाती है, ये एलापिड प्रजाति की सांप है। यह सबसे बड़े क्रेत में से एक है, जिसकी अधिकतम लंबाई लगभग 2.1 मीटर (करीब 6 फीट 10 इंच) तक हो सकती है। इसका वैज्ञानिक नाम “बंगारस फासिक्टस” है, अधिकांश प्रजातियों में इनके विष में न्यूरोटॉक्सिन होते हैं, जबकि कुछ में विभिन्न अनुपात में अन्य विषाक्त घटक होते हैं। इसकी परिवार में लघभग 360 प्रजातियां है और 56 पीढ़ी और कुछ 170 दूसरे उप-प्रजातियां भी इनमे शामिल हैं।

बैंडेड क्रेत पूरे इंडो – चाइना उप – क्षेत्र, प्रायद्वीप और इंडोनेशियाई द्वीपसमूह और दक्षिणी चीन में पाया जाता है। भारत, नेपाल, बांग्लादेश, मिजोरम, असम और त्रिपुरा जैसे राज्यों में यह प्रजाति की सांप बड़े असानी से मिल जाते हैं। यह बांग्लादेश, म्यांमार, कंबोडिया, थाईलैंड, लाओस, वियतनाम और दक्षिणी चीन (हांगकांग सहित), फिलीपींस से मलेशिया और बोर्नियो के मुख्य इंडोनेशियाई द्वीपों (जावा और सुमात्रा) के माध्यम से पूर्व की ओर से दर्ज किया गया है,

साथ ही साथ सिंगापुर भारत में, यह आंध्र प्रदेश, बिहार, झारखंड, छत्तीसगढ़, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, पूर्वोत्तर भारत, ओडिशा, तमिलनाडु और पश्चिम बंगाल में भी पाया जाता है। यह हाल ही में कर्नाटक के हासन जिले और चाकरी, बोकारो जिला, झारखंड और त्रिवेंद्रम, केरल में भी पाया गया। 

एलापीडा प्रजाति क्य़ा है?

जिसे आमतौर पर एलापिड्स के रूप में जाना जाता है, एलापीडा प्रजाति एक “समुद्री-मछली” विषैले सांपों का परिवार है। दुनिया भर के उष्णकटिबंधीय और उपोष्णकटिबंधीय क्षेत्रों में ये बैंडेड क्रेत (Banded Krait) बहुत अधिक पाए जाते हैं। एशिया, ऑस्ट्रेलिया, अफ्रीका और अमेरिका में स्थलीय रूपों के साथ प्रशांत और भारतीय महासागरों में समुद्री इलाक़ों में मूल रूप से ये पाए जाते हैं। इसकी प्रजाति की सभी साँपों की लम्बाई अलग अलग होती है। जिसमें 18 से.मी (7.1 इंच) से लेकर 5.85 मीटर (19 फीट 2 इंच) तक के किंग कोबरा भी शामिल हैं।

सबसे लंबा बैंडेड क्रेत (Banded Krait) जो अभी तक मापा गया था वो 2.25 मीटर (7 फीट 5 इंच) लंबा था, लेकिन आम तौर पर अभी तक सिर्फ 1.8 मीटर (5 फीट 11 इंच) तक ही सामने आयी है। 

जीनस का वैज्ञानिक नाम कन्नड़ / तेलुगु शब्द बंगरम से लिया गया है जिसका अर्थ है “सोना”,क्योंकि इसके शरीर के चारों ओर पीले छल्लों जैसी धारियां बनी होती है। 

Banded Krait के अन्य सामान्य नाम 

  • मिज़ो भाषा च्वंगेली, तियांगसीर
  • कार्बी भाषा माईपाम, रुई-टेरोन
  • असमिया भाषा – गोवाला, बैंडफ़ोरा
  • बैंडेड क्रेत को बंगाली में कहते है  ( banded krait in bengali ) शंखिनी, शाखामखी, शंखमुटी, राजबाप, शाखामोती कहते हैं 
  • हिंदी – अभिराज साँप, राजसाँप
  • इंडोनेशियाई – वेलंग
  • कोकबोरोक – बालिंगखुंग
  • मलयालम – मंजवरायण (महाराष्ट्र)
  • मराठी – पित्ती मान्यार, अग्य मान्यार, सतरंजय
  • ओडिया – राणा
  • तमिल – कट्टू वरियायन, यमुनियन वरीयान, यत्तिदि वरीयन
  • तेलुगु – कतला पमू, बंगारु पमू जिसका अर्थ है गोल्डन साँप
  • तुलु – कदंबले
  • थाई – नग सम लियाम, जिसका अर्थ है त्रिकोणीय सांप [3]।
  • वियतनामी – rắn cạp nong
  • नेपाली – गंगलगी, राजा साप वा सर्प गंगाली, गण ग्वाली

0 0 votes
Article Rating
0 0 votes
Article Rating

Leave a Reply

0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments