Tetnas aur Adult Deptheria tika kya hai | टेटनस और अडल्ट डिप्थीरिया टीका

टेटनस और अडल्ट डिप्थीरिया ( टीडी – Tetnas & Deptheria)  का टीका क्यों  जरुरी है,टीडी (TD) टीका क्या हैं? 

टीकाकरण में टीटी (TT) के बदले टीडी (TD) टिके को शामिल करना क्यों जरूरी है?
भारत में टीकाकरण सर्विलेंस के एक आंकड़ों के अनुसार डिप्थीरिया के ज्यादातर मामले 5 वर्ष या उससे अधिक के आयु वर्ग के बच्चे मे ज्यादा देखने को मिलते हैं।


( 2017 और 2018 में 77 प्रतिशत और 69 प्रतिशत थी ) ज्यादातर मामलों में देखा गया कि टीकाकरण ही नही हुआ था (दो तिहाई) 2016 में केरल में डिप्थीरिया आउटब्रेक (outbreak) में करीबन 79 प्रतिशत मामलों में 10 वर्ष से अधिक की आयु वर्ग वाले में सामने आए थे हालांकि 1999 से टिटनेस के कारण होने वाली मृत्यु की दर में 80 प्रतिशत की गिरावट आई है किन्तु फिर भी डिप्थीरिया का आउटब्रेक बढ़ रहा है जो डिप्थीरिया के प्रति प्रतिरोधक क्षमता की कमी को जाहिर करता है।

तो अब यह बात स्पष्ट होती है कि डीटीपी (DTP) के प्राथमिक टीकाकरण के बाद नवजात में डिप्थीरिया के विरुद्ध रोग प्रतिरोधक क्षमता कम हो जाती है और निरंतर सुरक्षा के लिए डिप्थीरिया टॉकसाइड युक्त टिकटों की बूस्टर खुराकें आवश्यक है। 
गर्भवती महिला के लिए टीडी (TD)  टीका क्यों जरूरी है जबकि टीटी (TT) टीका पहले ही दिया जा चुका है? 

  • गर्भावस्था के दौरान टीटी (TT) के बदले टीडी (TD), प्रसवपूर्व देखभाल के दौरान मां और नवजात शिशु को टेटनस व डिप्थीरिया के विरूद्ध सुरक्षा प्रदान करने के लिए की जाती है। 
  • गर्भावस्था के दौरान टीका, रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है और उन गर्भवती महिलाओं को सुरक्षा प्रदान करता है जिन्हें बूस्टर खुराकें पूर्ण रूप से प्राप्त नही हुई थी । 
  • टेटनस से सुरक्षा के साथ साथ टीडी, डिप्थीरिया के विरुद्ध रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाता है, तथा डिप्थीरिया के आउट ब्रेक को घटाता है। 

टीडी टीके की प्रेजेंटेशन ( Presentation) क्या होती है? 

टीका –             टीडी
प्रेजेंटेशन –        10 खुराक वाली शिशी 
शेल्फ लाइफ –    24 – 36 महीने 

क्य़ा टीडी (TD) टीका है? – 

Advertisement

टीडी नया टीका नही है। 133 देश अपनी राष्ट्रीय टीकाकरण अनुसूची के अनुसार टीडी (TD) टीके का इस्तेमाल कर रहे हैं। 
टीडी टीके की स्टोरेज ( Storage) वेस्टेज रेट (Westage Rate) एवं देखभाल किस प्रकार की जाती है? 
टीडी (TD) एक फ्रिज सेंसिटिव (sensitive) टीका है टीडी (TD) टिके के लिए रिकॉन्स्टिट्यूशन की कोई आवश्यकता नहीं होती है।


टीडी टीके की फ्रीजिंग को जांचने के लिए टीडी टिके के लिए शेक टेस्ट ( shake test) लागू है। अगर आईएलआर (ILR) में आपको कोई जमी हुई शीशी मिलती है तो ऐसी स्थिति में शीशी का इस्तेमाल नही करना चाहिए।
टीडी टिके के लिए वेस्टेज रेट 10 प्रतिशत है ।


टीडी (TD) टिके कितनी मात्रा में किस तरह और कहां पर लगाया जाता है?

रूट (Route) इंट्रामस्क्युलर (Intramuscular) 
टीका लगाने की जगह उपरी वाॅह
टीडी के लिए भी टीटी की यूआईपी अनुसूची का पालन किया जाएगा। 
देश में बाकी बचे टीटी (TT) टिकों का क्या होता है ?


अगर टीटी टीके का बाकी बचा स्टोक सभी मान्य आवश्यकताओं को पूरा करता है तो टीडी (TD) से पहले टीटी (TT) टिके का इस्तेमाल किया जाना चाहिए। उपलब्ध टीटी टीके को नष्ट करने या दोबारा मंगाने की कोई जरूरत नहीं होती है
टीटी के बदले टीडी संबन्धित सभी रिकॉर्डिंग और रिपोर्टिंग फॉर्मेट 

  • एमसीपी कार्ड ( MCP Card) 
  • ड्यू लिस्ट (Due list), 
  • टैली शीट (Tally sheet), 
  • आरसीएच रजिस्टर (RCH register),
  • माइक्रोप्लान (Micro plan 
  • एईफआई फॉर्मेट इत्यादि को अपडेट रखा जाता है। 

अगर टीडी खुराक शामिल करने के लिए इसमे सुधार कर दिया गया है तो उपयुक्त कॉलम मे इसे रिकार्ड किया जाना चाहिए ( बच्चों के लिए 10 वर्ष और 16 वर्ष तथा गर्भवती महिला के लिए टीडी – 1, टीडी – 2 और टीडी – बी पर )। अन्यथा: टीटी खुराको की जगह पर टीडी खुराको को रिकार्ड किया जाना चाहिए। 


टीटी के बदले टीडी टीके के कारण क्या एएनएम (ANM) के लिए स्पष्ट संचार निर्देश और प्रशिक्षण की आवश्यकता होगी। इसका प्रबंधन कैसे किया जाएगा?

टीटी के बदले टीडी टीके के कारण व्यापक तौर पर संचार निर्देश के जरूरत नही होगा क्योंकि इसका ईस्तेमाल और अनुसूची टीटी की तरह ही है। बदलना यानी कार्यक्रम के अन्तर्गत एक टीके के बदले दूसरा टीका, और लाभार्थी या अनुसूची मे कोई बदलाव नही होता है। इसलिए चिकित्सा अधिकारी, कार्यक्रम प्रबंधक और एएनएम के बीच एक सरल उन्मुखीकरण ( Orientation) काफी होता है।

क्य़ा गर्भावस्था के दौरान टीडी टीके का इस्तेमाल सुरक्षित है? 

टेटनस और डिप्थीरिया टाॅक्साइड युक्त टीके गर्भावस्था में ईस्तेमाल करने के लिए सुरक्षित है। इन टिकों का इस्तेमाल दशकों से किया जा रहा है और गर्भावस्था के दौरान टीकाकरण के कारण प्रतिकूल परिणाम और भ्रूण को खतरे का कोई प्रमाण सामने नही आया है।


(क्य़ा पहले से मौजूद एईएफआई सर्वेलेंस ( AEFI Surveillance) के बजाय टीडी टीके के लिए अलग सर्वेलेंस की जरूरत होती है? 

सभी टिकों के लिए हमेशा एईएफआई सर्वेलेंस की जरूरत होती है। टीकाकरण कार्यक्रम के अन्तर्गत सभी टिकों के लिए एईएफआई सर्वेलेंस की जानी चाहिए। यही टीडी टीके के लिए लागू होगा) । 
अगर महिला या किशोरी को पहले से ही टीटी टीका लग चुका है तो क्या अगले खुराक के लिए टीडी का इस्तेमाल किया जा सकता है? 



हाँ टीटी के बाद टीडी टीके को आगामी खुराक के तौर पर दिया जा सकता है, और पिछली सभी टीटी खुराकें मान्य होगी।
टेटनस और अडल्ट डिप्थीरिया टीका, टेटनस और डिप्थीरिया का एक मेल है जिसमें बड़े बच्चों और वयस्कों के लिए सलाह अनुसार डिप्थीरिया एंटीजेन (डी) की मात्रा होती है जिसका डॉज अलग अलग उम्र के हिसाब अलग अलग दिया जाता है 

निम्नलिखित सारणी टीडी टीके के विवरणों को दर्शाता है जिसे टीकाकरण कार्यक्रम (यूआईपी – UPI) के अंतर्गत इस्तेमाल किया जाता है। 
टीडी टीके को आईएलआर (ILR) मे +2 से +8 डिग्री सेल्सियस के बीच रखा जाता है। 
खुराक 0.5 मिलीमीटर

क्य़ा वर्तमान कोल्ड चेन स्पेस को बढ़ाने की आवश्यकता होगी?

एमसीपी कार्ड एचएमआईएस (HMIS) व एमसीटीएस (MCTS) टूल, टैली शीट और ड्यू लिस्ट में टीडी टीके को कहाँ दर्ज किया जाता है? 
पिछली टीटी खुराक की क्या मान्यता होगी? क्या उसे पिछली खुराकें दोबारा लेनी पड़ेगी?
0 0 votes
Article Rating
0 0 votes
Article Rating

Leave a Reply

0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments